बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत की मिस्ट्री जानने के लिए जांच चल रही है। बिहार पुलिस भी मुंबई पहुंच चुकी है और सुशांत की बहन, पूर्व गर्लफ्रेंड अंकिता लोखंडे, एक रसोइए, उनके दोस्तों और सहकर्मियों सहित छह लोगों के बयान दर्ज कर चुकी है। हालांकि सूत्रों के मुताबिक मुंबई पुलिस बिहार से जांच के लिए आई टीम को सहयोग नहीं कर रही है। इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि अगर सुशांत के पिता सीबीआई जांच की मांग करते हैं तो वह इसकी सिफारिश करेंगे। 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने  न्यूज चैनल 'आजतक' से फोन पर हुई बातचीत में कहा कि राज्य सरकार इस मामले को गंभीरता से देख रहे हैं। सुशांत के पिता ने पटना के राजीवनगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया और हमारी पुलिस जांच के लिए मुबंई  पहुंच चुकी है। उन्होंने कहा कि अगर सुशांत के पिता सीबीआई जांच की मांग करते हैं तो फिर राज्य सरकार इस पर सुझाव दे सकती है। बिहार सरकार सीबीआई जांच की सिफारिश कर सकती है। 

मुंबई पुलिस के असहयोग पर बिहार पुलिस शिकायत दर्ज कराएगी

सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या की जांच में जुटी बिहार पुलिस को मुंबई पुलिस का सहयोग नहीं मिल रहा। इस बात से नाराज बिहार पुलिस जल्द मुम्बई पुलिस के आला अधिकारियों के समक्ष अपनी शिकायत दर्ज कराएगी। डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय ने सीनियर पुलिस अफसरों के साथ मामले की समीक्षा की। इस दौरान यह बात सामने आई की मुंबई पुलिस जांच में सहयोग नहीं कर रही है। 

रोज होगी समीक्षा :

सुशांत सिंह आत्महत्या मामले की जांच की मॉनिटरिंग रोजाना सीनियर पुलिस अफसर के स्तर से की जाएगी। डीजीपी ने समीक्षा बैठक में यह टॉस्क सौंपा है। हालांकि यह जिम्मेदारी किस पुलिस अफसर को दी गई है इस बाबत जानकारी नहीं दी गई। मॉनिटरिंग के दौरान सीनियर अफसर रोजाना जांच टीम में शामिल पुलिस अधिकारियों से बात करेंगे। उनसे जांच में हुई प्रगति की रिपोर्ट ली जाएगी और आगे का टास्क सौंपा जाएगा। 

कई बिंदुओं पर हो रही जांच
बिहार पुलिस इस मामले में कई बिंदुओं पर जांच कर रही है। इसमें सुशांत के बैंक खातों की जांच भी शामिल हैं। बैंक खातों में कितने रुपए थे और ये कहां और कब ट्रांसफर किए गए, इसकी भी जांच की जा रही है। रिया चक्रवर्ती की इसमें क्या भूमिका है? सुशांत के करीबी लोगों से इस संबंध में जानकारी इकट्ठा करने का प्रयास किया जा रहा है। बैठक में एडीजी मुख्यालय जितेन्द्र कुमार, एडीजी विधि-व्यवस्था अमित कुमार, एडीजी ऑपरेशन सुशील खोपड़े, आईजी पटना रेंज संजय सिंह और एसएसपी उपेन्द्र शर्मा उपस्थित थे।