सत्ता की चासनी चखने के लिए भाजपा में शामिल हुए कांग्रेस विधायक प्रद्युम सिंह लोधी

प्रधुम्न के इस्तीफा देने के बाद खाली हुई बड़ा मलहरा विधानसभा सीट,होंगे उपचुनाव

छतरपुर जिले में भी होगा उपचुनाव साथ ही बदल गए जिले के राजनैतिक समीकरण

छतरपुर -राजनीति जो न कराए वो कम है मध्यप्रदेश के वर्तमान परिदृश्य को देखकर यह कहना गलत नहीं होगा कि यहां सिद्धांतों की राजनीति की बात करने वाले ना तो वह नेता रहे हैं और ना ही वह राजनैतिक दल अब जो नेता देखने को मिल रहे हैं उनके लिए जनता का हित मायने नहीं रखता वह अपने निजी स्वार्थों की पूर्ति करने के लिए दल बदल की राजनीति कर रहे साल की शुरुआत में जिस तरह भाजपा की सत्ता में वापसी हुई है उसे सब ने देखा है वह सिलसिला अभी टूटा नहीं है आज फिर एक कांग्रेस विधायक ने सत्ताधारी दल भाजपा का दामन थाम लिया और भाजपाई हो गए । चर्चाएं आम है कि छतरपुर जिले सेे ओर भी विधायक भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

आज से पहले छतरपुर में कांग्रेस के चार विधायक हुआ करते थे परंतु एक विधायक है भाजपा में शामिल होने के बाद अब इनकी संख्या 3 रह गई है आज भोपाल में छतरपुर जिले की बड़ा मलहरा क्षेत्र के विधायक पप्रधुम्न सिंह लोधी प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भाजपा सांसद व प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा की उपस्थिति में भाजपा में शामिल हो गए उनके भाजपा में शामिल होने से अब नियम अनुसार बड़ा मलहरा विधानसभा क्षेत्र खाली हो चुका है और अब हां भी उपचुनाव से अगला जनप्रतिनिधि चुना जाएगा। यह वही विधायक है जो उस समय फूट-फूटकर रोए थे जब प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस सरकार से इस्तीफा दिया था तब घड़ियाली आंसू रो कर कांग्रेस के लिए अपनी वफादारी दिखाई थी फिर ऐसा क्या हुआ जो गिरगिट की तरह रंग बदल कर भाजपा में शामिल हो गए।

प्रदुमन सिंह लोधी के भाजपा में शामिल होने से जिले की छतरपुर जिले की राजनीति में  एक नई करवट लेना शुरू कर दी है बड़ा मलहरा क्षेत्र से चुनाव लड़ चुके पूर्व मंत्री ललिता यादव के चेहरे पर एक अलग खुशी देखने को मिल रही है उनका कहना हमेशा से रहा है कि यदि वह छतरपुर से चुनाव लड़ते तो जीत जाती तो वही छतरपुर विधानसभा से महज कुछ वोटों से हार का मुंह देखना पढ़ा था इनकी हार केेेे बारे में कहा जाता है कि भाजपाइयों के एक खेमा उनके विरुद्ध था अर्चना सिंह के लिए अब एक प्रतिद्वंदी के तौर पर सीधे ललिता यादव खड़ी हुई है अब आने वाले समय में दोनों महिला नेत्री यों के बीच राजनीतिक प्रतिद्वंदिता देखने को मिल सकती है।